Ticker

6/recent/ticker-posts

तेजस्वी यादव ने बिहार सीएम को लिखा पत्र, रामविलास की पुण्यतिथि को राजकीय समारोह घोषित करने की उठाई मांग

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (tejashwi yadav) ने राज्य के मुखिया नीतीश कुमार (nitish kumar) को एक पत्र लिखा है। इस पत्र में तेजस्वी यादव ने आरजेडी (RJD) नेता रघुवंश प्रसाद और लोजपा (LJP) के संस्थापक रामविलास पासवान (ramvilas paswan) की पुण्यतिथि को राजकीय समारोह घोषित करने की मांग की है। गौरतलब है कि हाल ही में आरजेडी (RJD) नेता रघुवंश प्रसाद की पुण्यतिथि मनाई गई है। वहीं, 12 सितंबर को एलजेपी (LJP) के संस्थापक रामविलास पासवान की पहली बरसी मनाई जानी है। इसको न्योता देने के लिए चिराग पासवान (chirag paswan) ने तेजस्वी यादव से मुलाकात की थी।

इन नेताओं को चिराग ने दिया न्योता

बता दे कि पिछले साल बिहार ने अपने दो कद्दावर नेताओं रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) और रघुवंश प्रसाद सिंह (Raghuwansh Prasad Singh) को खोया है। दोनों के निधन के बाद राज्य के सियासी गलियारों में काफी दिनों तक शोक की लहर थी। अब लोजपा नेता अपने पिता रामविलास पासवान (ramvilas paswan) की पहली बरसी मनाने जा रहे हैं। इसको लेकर उन्होंने राज्य के सभी नेताओं समेत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, पीएम मोदी (pm modi), राहुल गांधी और सोनिया गांधी जैसे दिग्गज नेताओं को भी न्योता दिया गया है।

इसी बीच राजद नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार (nitish kumar) को पत्र लिखकर बिहार में पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह और रामविलास पासवान की प्रतिमा स्थापित करने का अनुरोध किया है। इसके साथ ही उनकी जयंती और पुण्यतिथि को राजकीय समारोह घोषित करने की मांग की है।

नीतीश को पत्र लिखकर की ये मांग

तेजस्वी ने पत्र में लिखा, 'रघुवंश प्रसाद सिंह (raguvansh prasad) और रामविलास पासवान (ramvilas paswan) दोनों ही राज्य के महान विभूति होने के साथ-साथ प्रखर समाजवादी नेता थे। दोनों ही राजनेताओं ने अपने सामाजिक सरोकारों और सक्रिय राजनीतिक जीवन के माध्यम से बिहार राज्य की उल्लेखनीय सेवा की। दोनों बिहार के ऐसे सपूत रहे हैं, जिनके व्यक्तित्व और कृतित्व से हम सभी बिहारवासी सदा ऋणी रहेंगे। ऐसे में उनकी अंतिम इच्छाओं को सम्मान देते हुए उन्हें पूरा करना ही उनके प्रति हमलोगों की सच्ची श्रद्धांजलि होगी। इसके साथ ही मेरा अनुरोध है कि दोनों दिवंगत नेताओं की राज्य में आदमकद प्रतिमा स्थापित करते हुए उनकी जयंती और पुण्यतिथि को राजकीय समारोह घोषित किया जाए।

गौरतलब है कि पिता की पहली बरसी का न्योता देने के लिए चिराग पासवान ने हाल ही में तेजस्वी यादव से मुलाकात की थी। दोनों नेताओं की इस मुलाकात पर बीजेपी ने तंज कसा था। बीजेपी ने कहा कि दोनों की कथा और व्यथा एक जैसी है ही। तेजस्वी (tejashwi yadav) अपने बड़े भाई को पार्टी में उनका हक नहीं दे रहे हैं वहीं चिराग पासवान (chirag paswan) अपने चाचा पशुपति को निपटाने में लगे हुए हैं।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/2Xdei7y
via IFTTT

Post a Comment

0 Comments