Ticker

6/recent/ticker-posts

सुहागरात वाले दिन मच्छरों के बीच शाहरुख खान का इंतजार कर रही थीं गौरी खान, हालत देख एक्टर हो गए इमोशनल

नई दिल्ली। बॉलीवुड के किंग कहे जाने वाले शाहरुख खान दुनियाभर में करोड़ों लोगों के दिलों में राज करते हैं। अपने दम पर उन्होंने इंडस्ट्री में बड़ा मुकाम हासिल किया है। जितनी उनकी प्रोफेशनल लाइफ हिट है, उतनी ही पर्सनल लाइफ के कारण भी वह चर्चा में बने रहते हैं। शाहरुख खान ने गौरी खान से लव मैरिज की है। दोनों सालों से हर सुख-दुख में एक-दूसरे का साथ निभाते आ रहे हैं। आज दोनों के पास दुनिया की हर खुशी है लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब शाहरुख फिल्मों में स्ट्रगल कर रहे थे। उन्होंने ऐसा भी दिन देखा जब गौरी खान को सुहागरात वाले दिन मच्छरों वाले कमरों में रहना पड़ा था।

दरअसल, शादी के वक्त शाहरुख खान बड़ा नाम नहीं थे। वह स्ट्रगल कर रहे थे। शादी के दौरान वह 'दिल आशना है' की शूटिंग कर रहे थे। इस फिल्म की निर्माता व निर्देशक हेमा मालिनी थीं। शादी से पहले वह मुंबई के एक बैचलर फ्लैट में रहते थे और शादी के बाद वह गौरी को उसी फ्लैट में रखने वाले थे। लेकिन उनके दोस्त व निर्देशक अजीज मिर्जा ने आखिरी वक्त में दोनों के लिए एक होटल का रूम दो दिन के लिए बुक करा लिया था। इस दौरान शाहरुख को याद आया कि उन्हें हेमा मालिनी को ये बता देना चाहिए कि वह मुंबई आ चुके हैं। जब उन्होंने हेमा को इस बारे में बताया तो उन्होंने उन्हें तुरंत शूटिंग वाली लोकेशन पर आने को कह दिया।

ये भी पढ़ें: शर्मिला टैगोर ने करीना कपूर की तारीफों के बांधे पुल, बोलीं- खुश हूं कि वो मेरी बहू हैं

shah_rukh_khan_gauri_khan1.png

ऐसे में शाहरुख खान गौरी को अपने साथ सूट पर ले गए ताकि वह उनकी मुलाकात हेमा मालिनी से करा पाएं। लेकिन उस दिन हेमा वहां मौजूद नहीं थीं। दोनों ने उनका काफी देर तक इंतजार किया। उसके बाद शाहरुख ने गौरी को मेकअप रूम में बिठाकर खुद शूट करने चले गए। उस वक्त रात के 11 बज रहे थे। गौरी ने शादी की हेवी साड़ी और जूलरी पहनी हुई थी और वह उसी हालत में मेकअप रूम में लोहे की कुर्सी पर सो गई थीं। रात के 2 बजे शाहरुख आए और गौरी की हालत देख वह काफी इमोशनल हो गए।

ये भी पढ़ें: शादी के सवाल पर आमिर खान के भाई फैसल ने कहा- मेरे पास इतने पैसे ही नहीं क‍ि पत्‍नी या गर्लफ्रेंड रख सकूं

इस बारे में शाहरुख खान ने कहा था, 'मुझे उस दिन मेरे फैसले पर रोना आया था। वो गौरी की सुहागरात थी जो एक घटिया से मच्छर से भरे कमरे में इंतजार करते हुए कटी थी। मैंने गौरी को उठाया और उनसे कुछ नहीं कहा। उन्होंने भी मुझसे कुछ नहीं पूछा। इसके बाद हम चुपचाप टैक्सी कर होटल वापस आ गए थे। मेरे लिए वह स्ट्रगल के दिन थे लेकिन उस रात ने मेरी लाइफ में बहुत बड़ा रोल प्ले किया।'



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/3DfJbcf
via IFTTT

Post a Comment

0 Comments