Ticker

6/recent/ticker-posts

जम्मू-कश्मीर में फारूक अब्दुल्ला के नेतृत्व वाले गुपकार डिक्लेरेशन की मीटिंग आज, भाजपा भी बैठक कर बनाएगी भविष्य की रणनीति

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर का सियासी पारा एक बार फिर से चढ़ता नजर आ रहा है। दरअसल, जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को समाप्त हुए दो साल पूरे हो चुके हैं। वहीं सरकार यहां फिर से विधानसभा चुनाव की तैयारी कर रही है। इसी के मद्देनजर आज भारतीय जनता पार्टी (BJP) की बैठक होनी है। इस बैठक की जानकारी मिलने के कुछ ही देर बाद पीपुल्स आलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन (पीएजीडी) की बैठक की खबरें आने लगीं। ऐसे में फारूक अब्दुल्ला के नेतृत्व वाले पीएजीडी द्वारा बुलाई गई बैठक को भाजपा द्वारा बुलाई गई बैठक के जवाब के रूप में देखा जा रहा है।

दोपहर 12 बजे बीजेपी की बैठक

जानकारी के मुताबिक यह बैठक जम्मू-कश्मीर की भाजपा इकाई द्वारा बुलाई गई है। इस दौरान पार्टी के कई दिग्गज नेता उपस्थित होंगे और पार्टी की आगे की रणनीति के साथ ही सुरक्षा के पहलुओं पर भी चर्चा होगी। बता दें कि इस बैठक का समय दोपहर 12 बजे निर्धारित किया गया है। फिलहाल बैठक कहां होगी इस संबंध में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है।

भविष्य की रणनीति बनाएगा पीएजीडी

बताया गया कि पीपुल्स आलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन (पीएजीडी) इस बैठक में जम्मू-कश्मीर की मौजूदा स्थिति पर चर्चा करेगी। इसके साथ ही भविष्य की राजनीति के लिए रणनीति बनाएगी। पीएजीडी की यह बैठक श्रीनगर के स्थित फारूक अब्दुल्ला के आवास पर सुबह 11 बजे होने वाली है। बता दें कि अब्दुल्ला इस गठबंधन के अध्यक्ष भी हैं।

यह भी पढ़ें: शोपियां में सुरक्षाबलों को बड़ी सफलता, 3 खूंखार आतंकी ढेर

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद कई नेताओं को नजरबंद कर दिया गया है। अब जब आर्टकिल 370 को समाप्त हुए दो साल से अधिक समय हो गया है फिर भी ये नेता लगातार अनुच्छेद 370 की बहाली की मांग कर रहे हैं। हाल ही ही जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने विवादास्पद बयान दिया था। मुफ्ती ने कहा कि जम्मू-कश्मीर जैसी रियासत दुनिया में और कहीं नहीं है। कश्मीर के लोग कायर नहीं हैं बल्कि उनमें धैर्य है। अहिंसा के रास्ते में ज्यादा हिम्मत चाहिए। हथियार उठाने के लिए साहस की जरूरत नहीं है, लेकिन जिस दिन कश्मीरियों का यह धैर्य टूटेगा, तब सब नष्ट हो जाएगा।

मुफ्ती ने दिया अफगानिस्तान का उदाहरण

मुफ्ती ने कहा ने आगे कहा कि हमारी परीक्षा ना लें, देखें कि पड़ोसी देश अफगानिस्तान में क्या हुआ। शक्तिशाली अमेरिकी बलों को अफगानिस्तान छोड़ना पड़ा। इसलिए कश्मीर पर बातचीत शुरू करें और अवैध रूप से अनुच्छेद 370 को हटाने और जम्मू-कश्मीर को विभाजित करने की अपनी गलती को सुधारें।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/389vGN2
via IFTTT

Post a Comment

0 Comments