पुलिस पर दबाव मामले में देवेंद्र फडणवीस का गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल को जवाब, किसी भी कार्रवाई से नहीं डरता

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में एक बार सियासी हलचल तेज हो गई है। राज्य के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ( Dilip walse Patil )ने कहा कि विपक्षी नेता देवेंद्र फडणवीस ( Devendra Fadanvis ) ने शनिवार रात मुंबई पुलिस स्टेशन का उस वक्त दौरा किया, जब ब्रुक फार्मा कंपनी के मालिक से पूछताछ की जा रही थी। उन्होंने कहा कि सरकारी काम में दखल देने के लिए उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

वहीं विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने पाटिल को बयान पर पलटवार किया है। उन्हें जवाब दिया है, 'मैं किसी भी जांच से डरता नहीं हूं, मैं विपक्ष में 20 साल से राजनीति में हूं, मैंने लोगों के लिए 36 मामले उठाए हैं, मैं ऐसी कार्रवाई के लिए भीख नहीं मांगता।'

यह भी पढ़ेँः शिवसेना विधायक का विवादित बयान, बोले- Corona का वायरस मिलता तो देवेंद्र फडणवीस के मुंह में डाल देता

उधर बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ( Chandrakant Patil ) ने भी प्रदेश सरकार को सलाह दी है कि वो विरोधियों और केंद्र पर निशाना साधने की बजाय कोरोना को काबू करने पर ध्यान दे।

गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटील ने आरोप लगाया है कि, रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी के शक में हिरासत में लिए गए दवा निर्माता राजेश डोकानिया को पुलिस हिरासत से रिहा कराने के लिए शनिवार को देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में बीजेपी नेताओं ने पुलिस पर दबाव बनाया। जो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

पुलिस को सूचना मिली थी कि 'रेमडेसिविर' दवा की 50 हजार से अधिक शीशियां शहर में लाई जा रही हैं। सूचना के आधार पर पुलिस ने ब्रुक फार्मा के निदेशक को शनिवार को पूछताछ के लिए बुलाया था।

लेकिन नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस और प्रवीण दारेकर थाने पहुंच गए और अधिकारियों से पूछने लगे कि डोकानिया को क्यों और किसलिए बुलाया गया है।

यह पूछे जाने पर कि क्या पुलिस बीजेपी नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करेगी, वलसे पाटील ने कहा कि वह मुद्दे पर अपने सहकर्मियों के साथ चर्चा करेंगे और उचित निर्णय लेंगे। उन्होंने कहा कि कंपनी निदेशक ने दवा का भंडार महाराष्ट्र सरकार को बेचने के लिए खाद्य एवं औषधि प्रशासन का अनुमति पत्र दिखाया।

यह भी पढ़ेंः दिल्ली में Corona की रफ्तार पर ब्रेक के लिए केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला, 26 अप्रैल तक बढ़ाया

पूर्वी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि वह राज्य के लाभ के लिए किसी भी स्तर पर काम करने के लिए तैयार हैं। मुंबई से नागपुर आने के बाद मीडियाकर्मियों से बात करते हुए फडणवीस ने कहा कि गृह मंत्री वाल्से पाटिल 'परिपक्व' हैं।

वहीं महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने मांग की कि पुलिस पर दबाव बनाने की वजह से फडणवीस और दारेकर के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने मुद्दे पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र भी लिखा है।

चंद्रकांत पाटिल बोले- कोरोना काबू करने पर ध्यान दे सरकार
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल की ओर से देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ कार्रवाई करने की बात पर हास्यास्पद बताया।

चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि अनिल देशमुख भी सरकारी कर्मचारियों को ऐसी धमकियां देते रहे हैं। हालांकि उन्होंने साफ कहा कि राजनीति की बजाय इस वक्त प्रदेश सरकार को कोरोना को काबू करने पर ध्यान देना चाहिए।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/32qOWmf
via IFTTT

No comments:

Powered by Blogger.