स्टार बनने से पहले सड़कों पर पेन बेचा करते थे कॉमेडियन जॉनी लिवर

नई दिल्ली। फिल्मों में अक्सर हमने हीरो देखा जो जबरदस्त एक्शन करता है। हीरोइन देखी है जो अपनी खूबसूरत अदाओं से लोगों का दिल जीत लेती है। विलेन देखा है जो अपने खौफ से लोगों की रातों की नीदें उड़ा देता है। वहीं जब सिनेमा में रोमांटिक, थ्रिलर फिल्मों के साथ-साथ कॉमेडी का तड़का लगा तो बस बात सिनेमा को एक नई दिशा मिल गई। वैसे अगर बॉलीवुड के मोस्ट पॉपुलर कॉमेडियन की बात हो तो जॉनी लिवर का नाम सबसे पहले जुंबा पर आता है, लेकिन जॉनी के लिए भारत का मशहूर कॉमेडियन बनना कोई इतना आसान नहीं था। तो चलिए आज आपको इस स्टार की स्ट्रगल की कहानी बतातें हैं।

Johnny Lever

13 साल की उम्र करना चाहते थे आत्महत्या


पहले तो आपको बता दें कि जॉनी लिवर का असली नाम जॉन राव था। वह एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखते थे। उनका पूरा परिवार एक चॉल में रहा करता था। उनके पिता प्रकाश राव हिंदुस्तान लीवर लिमिटेड नाम की कंपनी में काम किया करते थे। साथ ही उन्हें शराब पीने की बुरी लत भी थी। जिसकी वजह से उनके अधिकतर पैसे उसी में चले जाते थे। वहीं जॉनी उस दौरान महज 13 साल के थे। वह स्कूल के बाद छोटे-मोटे काम किया करते थे। ताकि वह घर खर्च में मदद कर सकेंगे।

वहीं जब जॉनी जब घर आते तो उनके पिता शराब पीकर मारपीट और मोहल्ले में लोगों से झगड़ा किया करते थे। यह देखते-देखते एक दिन जॉनी लिवर इतना परेशान हो गए कि उन्होंने सुसाइड करने का मन बना लिया। वह मरने के लिए एक रेलवे प्लेटफॉर्म पर जाकर लेट गए और ट्रेन के आने का इंतजार करने लगे। मौत का इंतजार कर रहे जॉनी लिवर की आंखों के सामने अचानक से उनके परिवार वालों की शक्लें सामने आनी लगी और वह तुरंत से पटरी से उठे और मरने का प्लान कैंसिल कर दिया।

यह भी पढ़ें- अभिनेता Jagdeep Jaffery की अंतिम विदाई में पहुंचे Johnny Lever, कहा- 'उनकी वजह से हूं आज बड़ा स्टार'

johnny lever

पढ़ाई छोड़ बेचने लगे सड़कों पर पेन

जॉनी लिवर ने सातवीं क्लास के बाद पढ़ाई छोड़ दी। वह बस पैसा कमाना चाहते थे। उन्होंने डांस और कॉमेडी करना शुरू कर दिया। जहां कहीं भी कोई फंक्शन होता वह वहां कॉमेडी के लिए पहुंच जाते। जिसके बदले उन्हें एक-दो रुपए मिल जाया करते थे। वहीं उस दौरान जॉनी की दोस्ती दो ऐसे लोगों से हो गई थी जो उन्हें मिमिक्री सिखाते थे। जॉनी भी उन्हें अपना गुरु मानने लगे थे। वहीं एक बार जॉनी उन लोगों के साथ कहीं जा रहे थे। तभी एक शख्स ने उन्हें रोक कर कहा कि जिनके साथ वह रह रहे हैं कि वह शराबी हैं। अगर वह भी उनके साथ रहेंगे।

तो वह ऐसे हो जाएंगे। जब जॉनी ने पूछा कि फिर उन्हें क्या करना चाहिए तो शख्स ने कहा कि वह पेन बेचता है। क्या तुम पेन बेचोगे? जिसके बाद जॉनी उस शख्स के साथ तीन महीनों तक सड़कों, बसों में पेन बेचने लगे। पेन बेचते हुए जॉनी बॉलीवुड के अलग-अलग अभिनेताओं की आवाज़ निकालते। जिसके सुन ग्राहक उनके पास आते थे। जॉनी का यह अंदाज लोगों को खूब पसंद आने लगा।

johnny lever

कैसे बने जॉनी लीवर

दरअसल, हुआ कुछ यूं कि जॉनी लिवर कुछ समय बाद अपने पिता की कंपनी हिंदुस्तान लीवर में ही काम करने लगे थे। एक बार कंपनी में एक फंक्शन रखा गया था। जिसमें जॉनी को कॉमेडी करने को कहा। इस फंक्शन में जैसे ही जॉनी स्टेज पर पहुंचे और उन्होंने हाथों मे माइक लिया। वैसे ही उन्होंने कंपनी में मौजूद सभी लोगों की मिमिक्री करना शुरू कर दिया। यह देख कंपनी के बॉस तक जोरों से ठहाके लगाने लगे और तभी से सभी उनके नाम के पीछे लीवर लगाने लगे। ऐसे जॉन रॉव से वह जॉनी लिवर बने।

johnny lever

ऐसे मिली पहली फिल्म

पिता की कंपनी से काम छोड़ने के बाद जॉनी लिवर अपना पूरा समय स्टैंणडअप कॉमेडी करने लगे। धीरे-धीरे उनके लिंक भी बनने लगे। कुछ समय बाद वह मशहूर सिंगर सोनू निगम के पिता संग प्रोग्राम में जाने लगे। जहां वह कॉमेडी कर लोगों को खूब हंसाते थे। वहीं एक बार एक ऐसे ही शो में एक्टर शत्रुघन सिन्हा भी पहुंच गए। जहां उन्होंने जॉनी लिवर को कॉमेडी करते हुए देखा। इस शो में जॉनी ने कई दिग्गज कलाकारों की नकल की। लेकिन शत्रुघन सिन्हा को खुद ही मिमिक्री खूब पंसद आई।

इसके बाद मशहूर अभिनेता सुनील दत्त ने जॉनी को स्टेज पर परफॉर्म करते हुए देखा और वह भी उनके दीवाने हो गए। उन दिनों सुनील दत्त एक फिल्म बना रहे थे। जिसका नाम था 'दर्द का रिश्ता'। जिसमें उन्होंने जॉनी लीवर को भी कास्ट किया। यह फिल्म 1982 में रिलीज़ हुई थी। जहां से उनका फिल्मी करियर शुरू हुआ।

 



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/326sYVf
via IFTTT

No comments:

Powered by Blogger.