कोविड-19 के खिलाफ जंग में मुकेश अंबानी के बाद टाटा, मित्तल और जिंदल भी आए सामने

नई दिल्ली। मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा महाराष्ट्र को मुफ्त में ऑक्सीजन प्रदान करने के बाद अब कई भारतीय व्यावसायिक घराने अपने संयंत्रों के लिए ऑक्सीजन का उपयोग चिकित्सा के लिए करने के लिए आगे आए हैं। रविवार को, टाटा स्टील ने घोषणा की कि वे कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए ऑक्सीजन प्रदान कर रहे हैं। टाटा स्टील से पहले जिंदल स्टील, आर्सेलर मित्तल निप्पन स्टील और सेल जैसी अन्य स्टील कंपनियों ने भी घोषणा की थी कि वे चिकित्सा उपयोग के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही हैं।

200-300 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन आपूर्ति कर रही है टाटा स्टील
टाटा स्टील ने रविवार को यह घोषणा करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया और कहा कि कंपनी विभिन्न राज्य सरकारों और अस्पतालों को प्रतिदिन 200-300 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही है। टाटा स्टील द्वारा प्रदान की गई सहायता पर टिप्पणी करते हुए, कंपनी के प्रवक्ता ने आश्वासन दिया कि टाटा स्टील लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की बढ़ती मांग की सप्लाई के लिए सक्रिय है और कंपनी विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा दी गई आवश्यकता के अनुसार आपूर्ति कर रही है।

जिंदल स्टील ने भी दिखाई प्रतिबद्धता
महाराष्ट्र में बढ़ते कोविड-19 मामलों के मद्देनजर, सज्जन जिंदल की अगुवाई वाली जेएसडब्ल्यू स्टील, महाराष्ट्र में अपने डोलवी संयंत्र से राज्य सरकार को प्रतिदिन 185 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही है। कंपनी ने एक ट्वीट के जरिए जानकारी दी कि कोविड-19 फिर से फैलने लगा है और हमें जीवन बचाने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत है। ऑक्सीजन इस्पात संयंत्रों में कच्चा माल है और इस महत्वपूर्ण समय में, हमने सरकार को स्टील बनाने पर जीवन बचाने के लिए प्रतिबद्ध किया है। एक अन्य ट्वीट में, जिंदल स्टील एंड पावर ने छत्तीसगढ़ और ओरिसा के अस्पतालों को 50-100 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति के अपने प्रयासों के बारे में बताया।

आर्सेलर मित्तल निप्पॉन स्टील भी आगे आया
17 अप्रैल को आर्सेलर मित्तल निप्पॉन स्टील इंडिया ने घोषणा की कि कंपनी गुजरात में चिकित्सा सुविधाओं के लिए 200 मीट्रिक टन तरल ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही है। सीईओ दिलीप ओमेन द्वारा जारी और कंपनी द्वारा ट्वीट किए गए एक बयान में, उन्होंने बताया कि कंपनी हजीरा में अपने प्लांट से ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही है, जिसे आईनॉक्स एयर प्रोडक्ट्स की साझेदारी में संचालित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इन कोशिशों के दौरान अधिकारियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहना और सोसायटी की सुरक्षा करना हमारी सामाजिक प्रतिबद्धता के अनुरूप है। स्टील मिनिस्ट्री को दी गई जानकारी के अनुसार महामारी की शुरुआत के बाद से स्टील प्लांट्स ने 130,000 टन से अधिक मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति की है।

सेल ने 33,300 टन से अधिक ऑक्सीजन की स्पलाई
शनिवार को स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड ने घोषणा की कि वे पहले ही कोविड 19 रोगियों के इलाज के लिए 33,300 टन से अधिक लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति कर चुके हैं। संगठन ने बताया कि 99.7 फीसदी शुद्धता की ऑक्सीजन झारखंड के बोकारो, छत्तीसगढ़ के भिलाई, ओडिशा के राउरकेला, दुर्गापुर और पश्चिम बंगाल के बर्नपुर में अपने संयंत्रों से आपूर्ति की जा रही है।

रिलायंस ने की थी शुरुआत
अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, जो गुजरात में दुनिया के सबसे बड़े रिफाइनिंग कॉम्प्लेक्स का संचालन करती है, ने जानकारी दी थी कि रिफाइनरी ने राज्य के सामने आने वाली तीव्र कमी के कारण जामनगर से महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की आपूर्ति शुरू कर दी हैं। इंडस्ट्रीज के प्रयासों की सराहना करते हुए स्टील मिनिस्ट्री ने अपने ट्विटर हैंडल के माध्यम से बताया, "सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों के इस्पात संयंत्रों में स्थित लगभग 28 ऑक्सीजन संयंत्र प्रतिदिन लगभग 1,500 टन चिकित्सा ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रहे हैं। सुरक्षा स्टॉक सहित 30,000 टन का स्टॉक चिकित्सा उपयोग के लिए उपलब्ध कराया जा रहा है।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/2P66e5a
via IFTTT

No comments:

Powered by Blogger.