तानाशाह सद्दाम हुसैन और गद्दाफी भी चुनाव जीता करते थे,राहुल बोले

 एक स्विस रिपोर्ट का हवाला देकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भारत में लोकतंत्र कम होने की बात कही थी। इसे लेेकर किए गए सवाल को लेकर केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने मंगलवार को केंद्र सरकार को घेरा। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि इराक के तानाशाह सद्दाम हुसैन और लीबिया के मुअम्मर गद्दाफी भी चुनाव जीतते थे।

अमरीका के ब्राउन यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर आशुतोष वार्ष्णेय के साथ हुई बातचीत में राहुल गांधी ने कहा,''सद्दाम हुसैन और गद्दाफी भी चुनाव करवाते थे और उन्हें जीतते थे। ऐसा नहीं था कि लोग वोटिंग नहीं करते थे, लेकिन उस वोट की सुरक्षा के लिए कोई संस्थागत ढांचा नहीं होता था।''

उन्होंने कहा कि चुनाव सिर्फ इसलिए नहीं होते है कि लोग जाएं और वोटिंग मशीन पर बटन दबा दें। चुनाव एक अवधारणा है। चुनाव संस्था हैं, जो सुनिश्चित करते हैं कि देश में ढांचा ठीक से चल रहा है। चुनाव वह है कि न्यायपालिका निष्पक्ष हो और संसद में बहस हो। इसलिए वोटों के लिए ये चीजें जरूरी हैं।

कांग्रेस नेता ने दो विदेशी संस्थाओं द्वारा भारत में स्वतंत्रता और लोकतंत्र की स्थिति की आलोचना किए जाने को लेकर बोले कि देश को इन संस्थाओं से मुहर की जरूरत नहीं है, लेकिन यहां हालात इनकी कल्पना से कहीं अधिक खराब हैं। प्रोफेसर आशुतोष वार्ष्णेय के साथ बातचीत में राहुल ने दावा भी किया कि अगर कोई फेसबुक और वॉट्सऐप को नियंत्रित कर सकता है तो फिर लोकतंत्र नष्ट हो सकता है।

शरद पवार ने दिया बड़ा संकेत, कांग्रेस रहित नया फ्रंट बनाने पर चल रहा विचार


from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/3twGL3p
via IFTTT

No comments:

Powered by Blogger.