होली पर भारत ने दिया चीन को 10 हजार करोड़ रुपए का झटका, कुछ इस तरह से किया नुकसान

नई दिल्ली। भारत त्योहारों की धरती है और प्रतिवर्ष देश में होली तथा रंग पंचमी जैसे बड़े त्यौहार से ही त्यौहारों की श्रृंखला शुरू होती है और हर त्यौहार देश के व्यापारियों के लिए व्यापार के बड़े अवसर लाता है। खास बात तो ये है कि त्योहारों के मौके पर चीनी सामानों की सबसे ज्यादा डिमांड रहती है, लेकिन इस बार भारत के लोगों ने चीन को बड़ा झटका दिया है। बीते एक साल से कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स के बैनर तले चल रहे चीनी सामान के बहिष्कार की मुहिम इस बार काम करती हुई दिखाई दी है। इस साल होली के मौके पर भारत में चीन को 10 हजार करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है।

यह भी पढ़ेंः- Gold And Silver Price बड़ी गिरावट, एक साल के निचले स्तर पर पहुंचे दाम

देशभर में 35 हजार करोड़ रुपए का नुकसान
कैट के अनुसार, कोरोना के तेजी से बढ़ते के कारण केंद्र सरकार एवं विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा कोविड दिशानिर्देशों के सख्ती से लागू होने के कारण देशभर के राज्यों को होली और रंग पंचमी पर लगभग 35 हजार करोड़ रुपए के व्यापार का बड़ा नुकसान सहना पड़ा है। कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने सोमवार को एक वक्तव्य जारी कर बताया कि विभिन्न राज्यों के प्रमुख व्यापारी नेताओं से आज हुई बातचीत के आधार पर यह कहा जा सकता है कि होली और रंग पंचमी के पर्व पर देशभर में पिछले कुछ वर्षों में लगभग 50 हजार करोड़ रुपये का व्यापार होता है, जबकि इस साल कोविड के चलते देशभर के व्यापारियों को होली और रंग पंचमी के त्यौहार पर लगभग 35 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के व्यापार का जबरदस्त नुकसान हुआ है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: चार दिन के बाद पेट्रोल और डीजल हुआ सस्ता, कितने हो गए हैं आपके शहर में दाम

इनका होता है कारोबार
कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने बताया, "होली और रंग पंचमी पर विशेष तौर पर रंग, अबीर, गुलाल, गुब्बारे, प्लास्टिक के होली के खिलौने, पीतल और स्टेनलेस स्टील की पिचकारी, मिठाइयां, टेसू के फूल, अन्य अनेक प्रकार के फूल, फल, ड्राई फूट्र, होली के लिए विशेष रूप से बने सस्ते कुर्ते पाजामे, टी शर्ट, होली की साडिय़ां, अन्य खाने पीने के सामान, धूपबत्ती एवं अगरबत्ती आदि का बड़ी मात्रा में व्यापार होता है।

यह भी पढ़ेंः- Share Market: होली के बाद निवेशकों की बल्ले-बल्ले, 45 मिनट में की 2,76,932 करोड़ रुपए की कमाई

चीन को 10 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान
उन्होंने कहा, "प्रतिवर्ष इस त्यौहार के मौके पर चीन से लगभग 10 हजार करोड़ रुपए से अधिक का सामान भारत आता था, जिसमें मुख्य रूप से होली के खिलौने, रंग, लोहे की पिचकारी, गुलाल आदि आते थे। लेकिन कैट द्वारा गत वर्ष 10 जून से देश भर में चालू चीनी सामान बहिष्कार अभियान के तहत जहां दिवाली तक चीन को जहां 70 हजार करोड़ रुपए के व्यापार का नुकसान हुआ, वहां इस वर्ष चीन से होली पर एक भी सामान न आने से चीन को 10 हजार करोड़ रुपये के व्यापार का बड़ा नुकसान हुआ है।



from Patrika : India's Leading Hindi News Portal https://ift.tt/39q1jmt
via IFTTT

No comments:

Powered by Blogger.