Header Ads

Seo Services

बाहर से आए भक्तों को 3 जनवरी से भगवान जगन्नाथ के दर्शन की इजाजत मिलेगी, पहले कोरोना टेस्ट होगा


ओडिशा के पुरी स्थित भगवान श्री जगन्नाथ मंदिर 9 महीने बाद आज से भक्तों के लिए खुलेगा। बाहरी लोगों को 3 जनवरी से दर्शन की इजाजत मिलेगी। इस दौरान रोज 5000 भक्त ही दर्शन कर पाएंगे। मंदिर प्रशासक समिति और जिला प्रशासन की तरफ से कोविड के नियमों के मुताबिक, बाहर से आए भक्त टेस्ट के बाद ही मंदिर में जा पाएंगे।

यह पहली बार है कि यहां 23 दिसंबर से तीन दिन मंदिर के सेवक पंडा (पुजारी) और उनके परिवार के सदस्य ही मंदिर में जा सकेंगे। इसके अगले 6 दिन सिर्फ पुरी नगर निगम क्षेत्र के लोगों को अनुमति मिलेगी। अलग-अलग वार्ड के लोग अलग दिन और समय पर अंदर जाकर दर्शन कर पाएंगे।

मार्च से बंद है मंदिर

श्री जगन्नाथ मंदिर मार्च में लॉकडाउन लगने के बाद 25 मार्च से बंद है। श्री जगन्नाथ मंदिर ट्रस्ट के प्रभारी जनसंपर्क अधिकारी जितेंद्र मोहंती ने बताया कि बुधवार से मंदिर दर्शन के लिए खोला जा रहा है। अभी भीड़ न लगे इसके लिए कैटेगरी बांटते हुए अलग-अलग लोगों को अलग-अलग दिन मंदिर प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। पहले दिन यहां मंदिर से जुड़े सेवक पंडा जिनकी संख्या करीब 2500 है, उन्हें व उनके परिवार वालों को 23 से 25 दिसंबर तक भगवान के दर्शन की अनुमति दी गई है।

इसके बाद 26 से 31 दिसंबर तक पुरी के 32 वार्ड में रहने वाले लोगों को ही दर्शन की अनुमति दी गई है। 1 और 2 जनवरी को मंदिर बंद रहेगा। इसके बाद 3 जनवरी से पुरी से बाहर के लोग भी मंदिर में प्रवेश कर पाएंगे। इसके लिए उन्हें कोरोना टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट अपने पास रखनी होगी। यह रिपोर्ट 48 घंटे से ज्यादा पुरानी नहीं होनी चाहिए।

सुबह 7.30 से रात 9 तक दर्शन

जनसंपर्क अधिकारी मोहंती ने बताया कि यह तय किया गया है कि 26 दिसंबर को सुबह 7.30 से 11.30 बजे तक वार्ड 6 व 9 के रहवासी, दोपहर 12 से 4 बजे तक वार्ड 12 व 15 के रहवासी और शाम 4.30 बजे से रात 9 बजे तक वार्ड 11, 2 व 3 के रहवासी अपने आधार कार्ड के साथ दर्शन के आएंगे। इसी के अनुसार अलग-अलग वार्ड के लोग अलग-अलग दिन व समय स्लॉट में भगवान का दर्शन करने मंदिर आ पाएंगे।



from Dainik Bhaskar /local/chhattisgarh/news/outsiders-will-be-able-to-visit-from-january-3-entry-will-be-given-only-after-the-corona-test-128042787.html
via IFTTT

No comments:

Powered by Blogger.