Header Ads Widget

Ticker

6/recent/ticker-posts

कम हो सकती हैं वोडाफोन-आइडिया की मुश्किलें; IPO के जरिए 35 हजार करोड़ रुपए जुटाएगी कंपनी

वोडाफोन-आइडिया की एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) की मुश्किलें अगले साल तक कम हो सकती हैं। 2021 में कंपनी दो अहम कदम उठाने जा रही है। पहला, कंपनी अगले साल जनवरी से मोबाइल टैरिफ में 15 से 20 फीसदी की बढ़ा सकती है। दूसरा, वोडाफोन ग्रुप 35 हजार करोड़ रुपए का यूरोपियन टॉवर यूनिट वेंटेज (Vantage) का IPO ला सकती है। इससे एजीआर की रकम के भुगतान में आसानी होगी।

मोबाइल टैरिफ में बढ़ोतरी

टेलीकॉम कंपनियां इसी साल दिसंबर के अंत तक या अगले साल जनवरी से मोबाइल टैरिफ में 15-20 फीसदी की बढ़ोतरी कर सकती हैं। कंपनियों का कहना है कि टैरिफ में बढ़ोतरी की मुख्य वजह इस वित्त वर्ष एजीआर और अन्य वजहों से होने वाला भारी घाटा है। इससे निपटने के लिए कंपनियां टैरिफ में 25% तक की भारी बढ़ोतरी का अनुमान है। हालांकि, एक बार में यह बढ़त करना संभव नहीं है। इसलिए कंपनियां दो या तीन बार में ऐसा करने का फैसला कर सकती हैं। इससे पहले देश की प्रमुख टेलीकॉम कंपनियों ने दिसंबर 2019 में टेलीकॉम टैरिफ बढ़ाया था।

सितंबर 2020 तक के आंकड़ों के मुताबिक प्रति ग्राहक सबसे ज्यादा कमाई भारती एयरटेल ने किया। भारती एयरटेल का प्रति ग्राहक औसत रेवेन्यू (ARPU) 162 रुपए रहा। जबकि, रिलायंस जियो का 145 रुपए और वोडाफोन आइडिया (VI) का सिर्फ 119 रुपए रहा।

वोडाफोन ग्रुप का IPO

ब्लूमबर्ग के मुताबिक वोडाफोन ग्रुप अपनी यूरोपियन टॉवर यूनिट वेंटेज को मार्केट में अगले साल की पहली तिमाही तक लिस्ट करना चाहती है। इसके लिए ब्रिटिश कंपनी ने 4.7 बिलियन डॉलर (35 हजार करोड़ रुपए) का IPO ला सकती है। रिपोर्ट के मुताबिक यह IPO यूरोपियन एक्सचेंज पर बीते तीन सालों में सबसे बड़ा IPO होगा। हालांकि, IPO का फाइनल साइज और टाइमिंग मार्केट के स्थिति पर निर्भर करेगा। सूत्रों के मुताबिक संस्थागत निवेशकों के साथ शुरुआती बातचीत में वेंटेज के शेयरों के लिए जबरदस्त डिमांड देखने को मिल सकती है। कंपनी ने कहा कि इससे कर्ज को कम करने में सहायता मिलेगी।

एजीआर की दिक्कतों को कम करने में मदद

वोडाफोन आइडिया को पिछले साल की दूसरी तिमाही में कॉर्पोरेट इतिहास में सबसे ज्यादा 50,921 करोड़ रुपए का बड़ा घाटा हुआ था। कंपनी पर वर्तमान में लगभग 50 हजार करोड़ रुपए का एजीआर बकाया है। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने एजीआर बकाया चुकाने के लिए मोहलत दी है। कोर्ट ने कंपनियों को एजीआर बकाया चुकाने के लिए 10 साल का समय दिया है। कंपनी को किस्त की अगली रकम अप्रैल 2021 में अदा करनी है। ऐसे में कंपनी को IPO और टैरिफ दरों में बढ़ोतरी से मिलने वाली रकम से AGR के भुगतान में आसानी हो होगी। ट्राई के डेटा के मुताबिक अगस्त में वोडाफोन-आइडिया के साथ कुल 30.01 करोड़ यूजर्स जुड़े थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ब्लूमबर्ग के मुताबिक वोडाफोन ग्रुप अपनी यूरोपियन टॉवर यूनिट वेंटेज को मार्केट में अगले साल की पहली तिमाही तक लिस्ट करना चाहती है। इसके लिए ब्रिटिश कंपनी ने 4.7 बिलियन डॉलर (35 हजार करोड़ रुपए) का IPO ला सकती है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3kBB1Ag
via IFTTT

Post a Comment

0 Comments