Header Ads Widget

Ticker

6/recent/ticker-posts

दिवाली के फेस्टिव सीजन से डिमांड को मिला बूस्टर, ऑनलाइन रिटेल सेल्स में 55% की ग्रोथ

भारत के प्रमुख फेस्टिवल सीजन में शुमार दिवाली इस वीकेंड पर समाप्त होने जा रहा है। लेकिन इसने डिमांड को बेहतर बूस्टर दिया है। ऑनलाइन रिटेल सेल्स और अन्य कारोबारी गतिविधियों से संकेत मिल रहा है कि एशिया की तीसरे सबसे बड़ी भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार हो रहा है।

फेस्टिवल सीजन के दौरान ऑनलाइन रिटेल सेल्स को बेहतर रेस्पॉन्स मिला है। फेस्टिव सीजन के दौरान अमेजन डॉट कॉम और फ्लिपकार्ट की ऑनलाइन सेल में एक साल पहले की समान अवधि के मुकाबले 55% की ग्रोथ दर्ज की गई है। रेडसीर की रिपोर्ट के मुताबिक, 15 से 21 अक्टूबर के बीच अमेजन और फ्लिपकार्ट ने 4.1 बिलियन डॉलर करीब 30 हजार करोड़ रुपए के उत्पादों की बिक्री की है।

न्यू व्हीकल रजिस्ट्रेशन में बढ़ोतरी

त्योहारी सीजन में वाहनों की बिक्री भी बढ़ी है। इस कारण न्यू व्हीकल रजिस्ट्रेशन में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (FADA) के डाटा के मुताबिक, अक्टूबर में 1.41 मिलियन नए वाहनों का रजिस्ट्रेशन हुआ है। FADA के मुताबिक, अक्टूबर महीने में ट्रैक्टर से लेकर पैसेंजर व्हीकल सभी प्रकार के वाहनों की मांग रही है।

मैन्युफैक्चरिंग और सर्विसेज सेक्टर में सुधार

टैक्स कलेक्शन, मैन्युफैक्चरिंग और सर्विसेज गतिविधियों में भी लगातार सुधार हो रहा है। यह एंप्लॉयमेंट ग्रोथ के प्रमुख उपकरण हैं। इससे खपत में लगातार सुधार हो रहा है जिसकी भारतीय अर्थव्यवस्था में करीब 60% हिस्सेदारी है। अप्रैल-जून तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था में करीब 24% की गिरावट दर्ज की गई थी। यह वार्षिक आधार पर सबसे बड़ी गिरावट थी।

क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन भी बढ़ा

रिटेल सेल्स में बढ़ोतरी के साथ क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन में भी सुधार हो रहा है। अगस्त में क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन में 8% की ग्रोथ रही थी। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के डाटा के मुताबिक, अगस्त में 142.89 मिलियन क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा भारत में स्मार्टफोन सबसे ज्यादा बिकने वाले उत्पाद के तौर पर उभरा है। इंटरनेशनल डाटा कॉर्प के मुताबिक 2020 की तीसरी तिमाही में स्मार्टफोन बिक्री के मामले में भारत टॉप-3 में शामिल रहा है।

नौकरियों में भी हो रहा है सुधार

अर्थव्यवस्था में रिकवरी और आर्थिक गतिविधियां बढ़ने से नौकरियों में भी सुधार हो रहा है। इस कारण अगस्त के बाद से बेरोजगारी दर में लगातार सुधार हुआ है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के डाटा के मुताबिक, अक्टूबर में बेरोजगारी 6.98% रही है। हालांकि, स्मॉल और मीडियम साइज के कई कारोबारों के बंद होने के कारण अभी भी बड़ी संख्या में लोग रोजगार के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

अर्थव्यवस्था में रिकवरी के स्पष्ट संकेत: भंडारी

HSBS होल्डिंग्स Plc के चीफ इंडिया इकोनॉमिस्ट प्रांजुल भंडारी ने गुरुवार को एक नोट में कहा कि अर्थव्यवस्था में रिकवरी के स्पष्ट संकेत दिख रहे हैं। मासिक सेल्स टैक्स रेवेन्यू 1 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंच गया है। मैन्युफैक्चरिंग संकेतों में सुधार हो रहा है। इसके अलावा कैपिटल पर आधारित इंडस्ट्री में भी बढ़ोतरी दिख रही है।

तीसरे प्रोत्साहन पैकेज से मिलेगी सपोर्ट

एक्सपर्ट्स का कहना है कि सरकार की ओर से गुरुवार को घोषित किए गए 2.65 लाख करोड़ रुपए के तीसरे प्रोत्साहन पैकेज से अर्थव्यवस्था को सपोर्ट मिलेगी। UBS सिक्युरिटीज इंडिया की इकोनॉमिस्ट तान्वी गुप्ता जैन का कहना है कि बड़ी संख्या में भारतीय हाउसहोल्ड्स की बैलेंसशीट पर तनाव है और सरकारी वित्तीय रेस्पॉन्स अभी भी मामूली है। तान्वी का कहना है कि नवंबर मध्य में फेस्टिव सीजन खत्म होने के बाद मांग में कमी आ सकती है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फेस्टिव सीजन में स्मार्टफोन भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाले उत्पाद के तौर पर उभरा है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2Ivki4y
via IFTTT

Post a Comment

0 Comments