Ticker

6/recent/ticker-posts

कंगना रनोट का आरोप- ट्विटर पर हर दिन मेरे 40 से 50 हजार फॉलोअर्स कम हो रहे, बोलीं- राष्ट्रवादियों को हर जगह संघर्ष करना पड़ता है

एक्ट्रेस कंगना रनोट का कहना है कि सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर उनके फॉलोअर्स की संख्या में हर दिन 40 से 50 हजार की कमी हो रही है। उनके मुताबिक राष्ट्रवादियों को हर जगह संघर्ष करना पड़ रहा है। उन्होंने ये बात एक यूजर को जवाब देते हुए लिखी, जिसने उन्हें ये बताया था कि आपके फॉलोअर्स लगातार कम हो रहे हैं।

उस यूजर ने अपने ट्वीट में लिखा था, 'कंगना जी आपके फॉलोअर्स की संख्या कम हो रही है। मुझे इस बारे में शक था, लेकिन अब इसकी पुष्टि हो गई है कि ट्विटर ऐसा कर रहा है। एक घंटे पहले आपको फॉलोअर्स करीब 9 लाख 92 हजार थे, लेकिन अब वे 9 लाख 88 हजार हैं।'

कंगना ने लिखा- हर दिन हजारों फॉलोअर्स कम हो रहे

इस यूजर को जवाब देते हुए कंगना ने लिखा, 'मैं सहमत हूं, मैंने भी हर दिन 40-50 हजार फॉलोअर्स कम होने की बात नोटिस की है। इस जगह पर मैं बिल्कुल नई हूं, लेकिन ये काम कैसे करता है? वे ऐसा क्यों कर रहे हैं, कोई आइडिया है?' अपने इस ट्वीट को उन्होंने ट्विटर इंडिया, ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी और ट्विटर सपोर्ट को भी टैग किया।

यूजर ने बताई इसके पीछे की वजह

इसके बाद प्रेम देसाई नाम के एक यूजर ने उन्हें जवाब देते हुए बताया, 'मैम इसे 'घोस्ट बैन' कहा जाता है। कुल मिलाकर अगर आप देशद्रोहियों के खिलाफ कुछ बोलते हैं, राष्ट्रवाद की भावना के साथ कुछ कहते हैं या वाम झुकाव वाले लोगों की गंदगी को उजागर करते हैं और अगर वो बहुत लोकप्रिय हो जाता है तो ट्विटर आप पर 'घोस्ट बैन' कर देता है। जैसे आपके ट्वीट्स कम लोगों को दिखना।'

कंगना बोलीं- उनका रैकेट बहुत मजबूत है

उस यूजर को जवाब देते हुए कंगना ने लिखा, 'हम्म मैं देख रही हूं कि राष्ट्रवादियों को हर जगह संघर्ष करना पड़ता है, उनका रैकेट बहुत मजबूत है, मैंने इसे नोटिस किया, क्योंकि बीती रात हम 1 मिलियन के बेहद करीब थे। कोई बात नहीं, उन सभी लोगों से ईमानदारी से माफी चाहती हूं जो ऑटोमैटिक रूप से अनफॉलो हो रहे हैं। बिल्कुल अनुचित लेकिन इसके लिए हम हल्का सा मुस्कुराता चेहरा इस्तेमाल कर सकते हैं।'

##

कंगना रनोट के फिलहाल ट्विटर पर करीब 9 लाख 95 हजार फॉलोअर्स हैं



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कंगना रनोट के मुताबिक राष्ट्रवादियों को हर जगह संघर्ष करना पड़ता है, क्योंकि एंटी नेशनल्स का रैकेट बहुत बड़ा है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2EH3xS7
via IFTTT

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां