आइसोलेशन वॉर्ड में रात को गाना गाते हैं अमिताभ बच्चन, मेंटल हेल्थ पर कोरोना के असर को किया साझा

आइसोलेशन वॉर्ड में गाना गाते हैं अमिताभ बच्चन Image Source : INSTAGRAM

कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन इस समय मुंबई के नानावटी अस्पताल के आइसोलेशन वॉर्ड में हैं। हाल ही में उन्होंने अपने ब्लॉग में लिखा है कि एक इंसान को हफ्तों तक न देखना रोगी की मानसिक स्थिति को कैसे प्रभावित करता है। उन्होंने खुलासा किया कि वह अंधेरे में गाने के अवसर का उपयोग करते हैं। 

बिग बी ने लिखा, "रात के अंधेरे और ठंडे कमरे की कंपकंपी में, मैं गाता हूं .. नींद की कोशिश में आँखें बंद हो जाती हैं .. इसके बारे में या आसपास कोई नहीं है ..।"

अमिताभ बच्चन का शुक्रवार तक नहीं हुआ है कोरोना टेस्ट, बीएमसी ने किया कंफर्म

इसके बाद अमिताभ बच्चन ने कोरोना वायरस के इलाज के दौरान साइड इफेक्ट्स के बारे में बात की, जिसके लिए व्यक्ति को हफ्तों तक आइसोलेशन में रहना पड़ता है। उन्होंने कहा कि हालांकि नर्स और डॉक्टर्स वॉर्ड में दिख जाते हैं, लेकिन वो हमेशा पीपीई किट में होते हैं तो उनका चेहरा दिखाई नहीं देता है। 

amitabh bachchan latest post

अमिताभ बच्चन ने आइसोलेशन वॉर्ड में अपने अनुभव को किया शेयर

उन्होंने लिखा, "मानसिक स्थिति स्पष्ट है कि कोविड 19 के रोगी को अस्पताल में आइसोलेशन में डाल दिया जाता है। दूसरे इंसान को देखने को नहीं मिलता है। हफ्तों तक। वहां नर्स और डॉक्टर आते हैं और देखभाल करते हैं, लेकिन वे पीपीई यूनिट्स में रहते हैं। आपको कभी पता नहीं चलता कि वो कौन हैं, उनकी विशेषताएं क्या हैं, क्योंकि वे हमेशा कवर रहते हैं। सभी सफेद के बारे में.. अपनी मौजूदगी में लगभग रोबोट.. वो काम करते हैं और चले जाते हैं.. इसलिए क्योंकि देर तक रुकना संदूषित होने का डर पैदा करता है।"

इस लड़की का टैलेंट देख खुश हुए अमिताभ बच्चन, कहा- अस्पताल में मेरा दिन रौशन कर दिया...

अभिनेता ने उल्लेख किया कि जिस डॉक्टर के मार्गदर्शन में उपचार किया जा रहा है, वह कभी भी "आश्वासन का हाथ" नहीं देते हैं, बल्कि वो वीडियो कॉल के माध्यम से मरीजों से बात करते हैं। जो "परिस्थिति के अनुसार सबसे अच्छा है" लेकिन अभी भी अवैयक्तिक है।

आइसोलेशन में हफ्ते बीतने के बाद आने वाले प्रभावों के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, "... क्या इसका मानसिक रूप से मनोवैज्ञानिक रूप से प्रभाव पड़ता है, मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि करता है.. मरीजों को गुस्सा आता है.. उन्हें प्रोफेशनल्स के जरिए कंसल्ट किया जाता है। वो अलग व्यवहार किए जाने के डर से पब्लिक के बीच जाने से डरने लगते हैं। ऐसा ट्रीट किया जाता है, जैसे अभी भी बीमार हो। ये उन्हें गहरे डिप्रेशन और अकेलेपन की तरफ ले जाता है। भले ही इस बीमारी ने सिस्टम को छोड़ दिया हो, लेकिन 3-4 सप्ताह तक चलने वाले बुखार के मामलों को कभी खारिज नहीं किया जाता है।"

कोरोना का इलाज करा रहे अमिताभ बच्चन ने अस्पताल से लिखा लेटेस्ट पोस्ट 'भगवान मेरी मदद करो...'

कोरोनोवायरस महामारी के दौरान चीजें कैसे बदली हैं, इस पर अमिताभ ने लिखा, "हर मामला अलग है .. प्रत्येक दिन एक नया लक्षण ऑब्जर्वेशन और रिसर्च के तहत है ... केवल एक या दो क्षेत्र नहीं .. पूरा ब्रह्मांड .. परीक्षण और त्रुटि कभी भी इतनी बड़ी मांग में नहीं थे, जितने अब हैं ..।"



from India TV Hindi: entertainment Feed https://ift.tt/3jFE6A2
via IFTTT
Previous
Next Post »