गुजरात से 9 माह की गर्भवती 6 दिन में 196 किमी पैदल राजस्थान पहुंची, तब प्रशासन ने एंबुलेंस से घर पहुंचाया

काेराेना के कहर में ज्यादातर लोग घरों में सुरक्षित हैं। लेकिन, जाे घर से दूर हैं, वाे घर जाने के लिए कितना दर्द सहते हैं?इसकी बानगी डूंगरपूर के टामटिया गांव में देखने को मिली। गर्भवती महिला के लिए एक-एक कदम चलना मुश्किल भरा हाेता है।लेकिन, एक महिला ने 9 माह की गर्भवती होने के बावजूद 6 दिन लगातार पैदल सफर किया। साथ में पति और दो बच्चे भी थे।

इस दौरान कई चाैकियाें और प्रशासनिक अफसरों के सामने से गुजरी। लेकिन, जब मदद मिली, तब तक वो 196 किलोमीटर सफर तय कर चुकी थी।

रतलाम की है महिला
मध्यप्रदेश में रतलाम जिले के सैलाना के गांव कूपडा के लक्ष्मण भाभर, 9 माह की गर्भवती पत्नी बापूडी, 2 वर्ष की पुत्री और एक वर्ष के पुत्र के साथ अहमदाबाद से 6 दिन पहले पैदल रवाना हुए थे। ये रतनपुर बॉर्डर से डूंगरपुर होते हुए टामटिया चेक पोस्ट पर पहुंचे। तब तक ये 196 किमी का सफर तय कर चुके थे। यहां अफसरों ने इन्हें भरपेट भोजन कराया। गर्भवती की जांच एवं स्क्रीनिंग भी की गई। इसके बाद एम्बुलेंस की व्यवस्था कर उनके घर पहुंचाया गया।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
राजस्थान पहुंचने के बाद फसरों ने इन्हें भरपेट भोजन कराया। गर्भवती की जांच एवं स्क्रीनिंग भी की गई। इसके बाद एम्बुलेंस की व्यवस्था कर उनके घर पहुंचाया गया।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3csrCYH
via IFTTT
Previous
Next Post »