दंतेवाड़ा के जिस नक्सली पर 5 लाख का इनाम सीआरपीएफ उसकी मां का इलाज कराएगी, 3 दिन पहले असिस्टेंड कमांडेंट डॉक्टर लेकर घर पहुंचे थे

खतरनाक नक्सली बुधरा की मां दुले का इलाज सीआरपीएफ करवाने जा रही है। यह पहला मामला है जब सीआरपीएफ किसी नक्सली के परिवार का इलाज करवाएगी। नक्सली बुधरा पर पांच लाख का इनाम है।

बुधरा की मां का एक पैर लकड़ी की तरह सूखता और काला पड़ता जा रहा है। बीमारी अब दूसरे पैर में भी पहुंच रही है। हालत यह है कि अब चलना-फिरना भी मुश्किल हो गया है। आर्थिक तंगी के कारण वह अपना इलाज नहीं करा पाई और पिछले 8 सालों से इस दर्द को झेल रही हैं।

इस बात की खबर जब सीआरपीएफ 195 बटालियन को मिली तो यह तय किया गया कि वह अपने सबसे बड़े दुश्मन नक्सली बन चुके बुधरा की मां का इलाज करवाएगी। तीन दिन पहले सीआरपीएफ के असिस्टेंट कमांडेंट संजय चौहान अपनी टीम के साथ डॉक्टर और एम्बुलेंस लेकर नक्सली के घर पहुंचे। पहले थोड़ा सामान बांटा और फिर इलाज शुरू कर दिया।

बेटा नक्सली कब बना मां को पता ही नहीं चला

दंतेवाड़ा से 50 किमी दूर पखनाचुआ गांव में बुधरा की मां और पत्नी बाकी परिवार के साथ रहती हैं। दुले बताती हैं कि बेटा कब नक्सली बन गया उसे पता ही नहीं चला। 10 साल पहले वह रात को घर छोड़कर चला गया था। महीने भर बाद पता चला कि वह नक्सल संगठन में शामिल हो गया, इसके बाद लौटा ही नहीं।

दुले कहती हैं, "मैं बहुत बीमार हूं और बेटे से कहना चाहती हूं कि अगर वह मुझे सुन रहा है, तो घर लौट आए।"

बुधरा अपने माता- पिता का बड़ा बेटा है। दो छोटे भाई हैं, जो गांव में रहकर मजदूरी करते हैं। उसके पिता और भाइयों का कहना है कि बुधरा ने हमें कहीं का नहीं छोड़ा। बुधरा भले ही नक्सलियों का कितना भी बड़ा नेता क्यों न हो, उसे अपनी बीमार मां और परिवार की फिक्र नहीं है। हम भी उससे कोई संबंध नहीं रखना चाहते।

28 साल का बुधरा सोढ़ी नक्सलियों के दरभा डिवीजन का एलजीएस कमांडर है। उस पर 5 लाख रुपए का इनाम घोषित है। वह सालों से नक्सल संगठन के लिए काम कर रहा है। वह विधायक भीमा मंडावी, दूरदर्शन के कैमरामेन की हत्या में भी शामिल रहा है।

14 मार्च को एसपी पहुंचे थे घर, अब घबराए नक्सलियों ने सुकमा भेजा
नक्सली बुधरा के घर 14 मार्च को एसपी डॉ अभिषेक पल्लव भी पहुंचे थे। परिवार से मिले और उन्हें जरूरत का सामान बांटा। उन्होंने परिवार के सदस्यों से बुधरा को सरेंडर कराने में मदद के लिए भी कहा। अब एसपी बताते हैं कि उन्हें जानकारी मिली है कि बुधरा को नक्सलियों ने घर के इलाके से दूर सुकमा की ओर भेज दिया है। नक्सलियों ने बुधरा को निगरानी में भी रखा है, उन्हें डर है कि बुधरा कहीं सरेंडर न कर दे।

बुधरा की मां और पत्नी को सीआरपीएफ ने कुछ जरूरी सामान भी दिया।


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
नक्सली बुधरा की मां दुले दंतेवाड़ा से 50 किमी दूर पखनाचुआ गांव में रहती हैं। वे 8 साल से पैर की बीमारी से पीड़ित हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3bBwDgo
via IFTTT
Previous
Next Post »