12 साल में सबसे कम गर्मी; इसके चार मुख्य कारण, इनमें से एक लॉकडाउन भी

मध्यप्रदेश केभोपाल शहर में पिछले 12 साल के मुकाबले इस बार गर्मी उतनी असरदार नहीं है। अप्रैल का आखिरी दिन छोड़ दें तो मार्च के 31 और अप्रैल के 29 दिनों में से ज्यादातर दिन तापमान सामान्य से कम ही रहा। कुछ दिन तापमान सामान्य स्तर पर रहा। अप्रैल के केवल आखिरी दिन पारा 41 डिग्री पर गया था। अब मई भी उसी ट्रैक पर चलता दिख रहा है। मई के सात में से दो दिन तापमान सामान्य से 1 डिग्री कम रहा। बाकी दिन औसत के करीब या एक डिग्री अधिक रहा। अगले सात दिन तापमान सामान्य रहने के आसार हैं।

गर्मी असरदार न होनेके ये है चार कारण
1. हर 10 दिन के अंतराल में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है।
2. अरब सागर, बंगाल की खाड़ी में बनी नमी बादल के रूप में दिख रही।
3. राजस्थान की गर्म हवाओं से तपन होती है। इस बार ऐसा नहीं है।
4. लॉकडाउन में वाहन बंद पड़े हैं। इससे भी राहत है। (मौसम विशेषज्ञ अजय शुक्ला के मुताबिक)

लॉकडाउन इफेक्ट
15 मार्च तक ठंड बारिश :इस बार 15 मार्च तक पारा सामान्य से लगभग 5 डिग्री तक कम रहा। बादल, बारिश और उत्तरी हवा के कारण ठंड महसूस होती रही। इसके बाद मौसम कुछ सुधरा, पर पारा 30 डिग्री तक ही पहुंचा।
आगे क्या : अगले 5दिन में कहीं बारिशमौसम विशेषज्ञ डाॅ. डीपी दुबे का कहना है कि अगले पांच दिन भी कहीं-कहीं बारिश, बादल छाए रहेंगे। इंदौर में भी बादल छाए रहेंगे, हवा चलेगी। लेकिन तापमान पर ज्यादा असर नहीं होगा।

12 साल में अप्रैल का तापमान

वर्ष तारीख तापमान
2008 28 व 30 41.3डिग्री
2009 30 43.6डिग्री
2010 18 42.2डिग्री
2011 27 व 29 40.8डिग्री
2012 3 व 10 40.2डिग्री
2013 30 41.0डिग्री
2014 28 40.8डिग्री
2015 21 42.0डिग्री
2016 16 व 30 41.0डिग्री
2017 18 41.6डिग्री
2018 29 42.1डिग्री
2019 24 43.5डिग्री
2020 30 41.0 डिग्री

12 साल में मई का मिजाज

वर्ष तारीख तापमान
2008 24 व 27 43.7 डिग्री
2009 15 और 22 43.2डिग्री
2010 22 44.2डिग्री
2011 19 42.5डिग्री
2012 26 42.0डिग्री
2013 20 42.8डिग्री
2014 30 43.2डिग्री
2015 19 43.5डिग्री
2016 19 44.5डिग्री
2017 26 42.8डिग्री
2018 29 43.2डिग्री
2019 29 व 31 42.5डिग्री


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
इस बार 15 मार्च तक पारा सामान्य से लगभग 5 डिग्री तक कम रहा। बादल, बारिश और उत्तरी हवा के कारण ठंड महसूस होती रही।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2T0CIMP
via IFTTT
Previous
Next Post »